ऋषि कपूर ने अपनी मौत को लेकर सालों पहले की थी ऐसी भविष्यवाणी,जो हो गई सच

बॉलीवुड (Bollywood) में ‘चिंटू जी’ के नाम से मशहूर ऋषि कपूर (Rishi Kapoor) कई आंखों को नम करके दुनिया को अलविदा कह गए. दिग्‍गज एक्‍टर ऋषि कपूर के दुनिया से चले जाने के बाद उनके फैंस और उनके कई परिजन उनको आखिरी बार देख नहीं सके, इसका उन्हें बहुत गम है, जो शायद सारी जिंदगी रहेगा भी. लॉकडाउन (Lockdown) के चलते उनकी अंतिम यात्रा में मात्र 20-25 लोग शामिल हुए थे, लेकिन क्या आप जानते हैं कि अपनी मौत और अंतिम संस्कार (Funeral) को लेकर उन्होंने सालों पहले एक भविष्यवाणी (Rishi Kapoor’s death prediction) की थी, जो सच साबित हुई.

ऋषि कपूर (Rishi Kapoor) एक जिंदादिल इंसान थे. चेहरे पर हमेशा मुस्कान रहती थी और उन्होंने अपनी जिंदगी को जी भर के जिया. लेकिन क्या आप जानते है कि एक बार उन्होंने अपनी अंतिम यात्रा को लेकर एक भविष्यवाणी की थी जो सच साबित हुई. 28 अप्रैल 2017 को उन्होंने एक ट्वीट किया था, जिसमें ऋषि कपूर ने कहा था, ‘जब मैं मरूंगा तो कोई मुझे कंधा देने वाला नहीं होगा.’ ये बात तब की है जब विनोद खन्ना का निधन हुआ था.

दरअसल, विनोद खन्ना के निधन के बाद उनकी अंतिम यात्रा में बॉलीवुड के बहुत कम कलाकार शामिल हुए थे. इस पर ऋषि कपूर ने नाराजगी जाहिर की थी. तब उन्होंने एक ट्वीट किया था और कहा था. ‘ऐसे क्यों? मेरे और मेरे बाद. मुझे तैयार रहना चाहिए, जब मैं मरूंगा तो कोई मुझे कंधा देने वाला नहीं होगा. बहुत ज्यादा गुस्सा हूं, आज के तथाकथित सितारों से.’

इस ट्वीट के जरिए वो ये बताना चाह रहे थे कि आज कलाकारों के अंदर अपने सीनियर्स और दिग्गज कलाकारों के प्रति दिल में प्यार ही नहीं रह गया. इस ट्वीट के बाद ये कौन जानता था कि ऋषि कपूर का अपने लिए कहा गया कथन सच साबित हो जाएगा. उनकी अंतिम यात्रा में परिवार के करीब 20 सदस्य उनकी अंतिम यात्रा में सामिल हो सके. यहां तक की उनकी बेटी रिद्धिमा कपूर साहनी भी लॉकडाउन की वजह से अपने पापा से आखिरी बार नहीं मिल सकीं.

आपको बता दें कि ऋषि कपूर काफी समय से कैंसर से जूझ रहे थे. 29 अप्रैल को अचानक उनकी तबीयत खराब हुई और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया. इसके दूसरे ही दिन 30 अप्रैल को ऋषि कपूर के निधन की खबर ने सभी को गहरा सदमा दिया. उनके निधन के बाद उनकी बेटी रिद्धिमा कपूर दिल्ली में फंसी रह गईं. लॉकडाउन के चलते वो पहुंच नहीं पाई थीं. अपने पापा के निधन के दो दिन बाद वो दिल्ली से मुंबई सड़क मार्ग द्वारा पहुंचीं, इसके रिद्धिमा ने अपने पापा की शांति के लिए की गई पूजा में हिस्सा लिया.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *