जानिए जर्मन इंजीनियर के द्वारा बनाया गया “Mobile Airbag” के बारे में !!

0
119

दोस्तो अब बात हमारी करे तो हममे से ना जाने कितने लोगों ने कितनी बार ही खुदका फ़ोन गिराया होगा और ना जाने कितनी बार ही फोन टूटा भी होगा। अब जब हमारा कीमती फ़ोन गिरता है तो हमे बहुत बड़ा झटका लगता है और इस झटके का दर्द हमे तब तक रहता है जब तक हम फोन को उठाके निहार नही लेते यानी चेक नही कर लेते । हम सबसे पहले हमारी स्क्रीन चेक करते है कि उसको तो कुछ नही हुआ उसके बाद कैमरा और फिर स्पीकर । अगर सब सही रहता है तो हम बहुत खुश होते है लेकिन कुछ ख़राब होता है तो हमारी जान हाथ मे आ जाती है । अब बात सिर्फ पैसे की नही होती उस डिवाइस के अंदर हमारा कीमती डेटा भी होता है जो कि पैसो से कई ज्यादा होता है। अब कई बार तो लोग इतनी बार फ़ोन गिराते है कि उनकी रिपेयर की कॉस्ट फ़ोन से ज्यादा हो जाती है ।
अब टेक्नोलॉजी जैसे जैसे बढ़ रही है वैसे वैसे हम सेफ हो रहे है ना सिर्फ हम सेफ हो रहे है बल्कि हमारा फ़ोन भी सुरक्षित हो रहा है क्योंकि जर्मन के एक इंजीनियर ने ऐसी ही टेक्नोलॉजी उजागर करी है । अब हमारा फ़ोन चाहे कही से भी गिरे वो सेफ रहेगा । अब इस नई खोज के बाद हमें रिपेयर पर खर्च करने की कोई जरूरत नही है ।

मोबाइल एयर बैग

अब इस बैग के बाद हम हमारा फ़ोन ज्यादा सिक्योर रख पाएंगे । अब हमसे अगर फोन निकालते वक़्त जीन्स से गिरता भी है तो हम दुखी नही होंगे । फिलिप फ़्रंजिल नामक एक 25 वर्षीय युवक ने इस इंवेंशन को किया है । इस एक्सपेरिमेंट को सफल बनाने में फिलिप की 4 साल की मेहनत है । अब हमारे फ़ोन के लिए वैसे तो बहुत सारे उपाय है सेफ रखने के लिये लेकिन यह टेक्नोलॉजी बहुत ही बढ़िया प्रतीत हो रही है । हम ग्लास भी लगाते है फ़ोन पर प्रोटेक्ट करले लिए लेकिम वो भी कई बार असरदार नही होते । लेकीन यह टेक्नोलॉजी एक्टिव डंपिंग के उर काक करेगी यानी फोन अगर गिरता है तो ये स्प्रिंग खोल देगी ताकि फोन टूटे ना । हमने गाड़ी के एयर बैग्स के बारे में तो सुना है लेकिन अब फोन के बैग्स भी आने लगे है और ये हमारे फोन को बहुत अच्छी प्रोटेक्शन देंगे ।


फिलिप जो कि इस टेक्नोलॉजी के आविष्कारक है उनको इस खोज के लिए अवार्ड भी मिला है और उन्होने इसको खुदके नाम से पेटेंट भो करवा लिया ताकि कोई और काम में न ले पाए इस टेक्नोलॉजी को । अब आने वाले समय मे फ़ोन आसानी से नही टूटने वाले ऐसे आसार लगाए जा रहे है और वैसे भी कंपनियां गोरिला स्क्रीन के ऊपर काम कर रही है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here