17 बार जगन्नाथ मंदिर पर हो चूका आक्रमण, हर बार पुजारियों ने मूर्ति को बचाया, इस प्रभु अंगरक्षक की देखे बाहुबली बॉडी ?

0

उड़ीसा में जगन्नाथ पुरी धाम के बारे में सुना होगा यहाँ काफी चमत्कार देखने को मिलते हैं यहां पर पुजारी ही जगन्नाथ महाप्रभु की सेवा करते हैं अब बात करें अनिल गोच्छीकार पुजारी की तो यह बाहुबली बॉडी बिल्डर हैंइसने बॉडी बिल्डिंग के कई मैडल जीते हैं।

देखा जाए तो जगन्नाथ महाप्रभु के अंगरक्षक के लिए बाहुबली बॉडी भी होना जरूरी हैं, अनिल के पूर्वज इस मंदिर में पूजा किया करते थे, श्री जगन्नाथ मंदिर में देखा जाए तो पुजारियों ने भी विग्रहों को छुपा कर उनकी रक्षा कई बार की हैं।

अनिल के बारे में बता दें कि यह मंदिर की जिम्मेदारी तो संभालते हैं जबकि बॉडीबिल्डिंग की प्रतियोगिताओं में चैंपियन रह चुके हैं, इसमें 7 बार मिस्टर ओडिशा का खिताब जीता है।

इसने राष्ट्रीय चैंपियनशिप में दो बार गोल्ड और सिल्वर मेडल जीता, इसके अलावा 2016 में दुबई में अंतरराष्ट्रीय चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीता था ,2017 और 2019 की राष्ट्रीय चैंपियनशिप में गोल्ड और 2018 में सिल्वर मेडल जीता था।

अनिल ने बताया कि महाप्रभु जगन्नाथ की सेवा करने के लिए उनके परिवार सालो से सेवा करते हैं जब कई बार आक्रमणकारियों ने मंदिर पर हमला किया तो हमारे पूर्वजों ने विग्रह को मंदिर से निकालकर महाप्रभु की रक्षा की।

महाप्रभु की मूर्ति काफी भारी होती है इसलिए उसको उठाने में ताकतवर होना जरूरी ,है यहां पर देखा जाए तो 17 आक्रमण हुए और हर बार पुजारियों ने भगवान की मूर्ति को छुपाया है और हमलावरों से रक्षा की हैं। इस खबर से सबंधित सवालों के लिए कमेंट करके बताये और ऐसी खबरे पढ़ने के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें – धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here